Best Patriotic (Desh Bhakti Shayari) In Hindi

हमारे  देश मे कई देश भक्तों   ने जन्म लिया है, जिहोने अपनी जान की परवाह न करके हमारे देश को आज़ाद  किया था, ऐसे ही कुछ देश भक्त है, भगत सिंह, राज गुरु, सुखदेव, लाला लाजपत राय  , महात्मा गाँधी  आदि

यहाँ पर हम कुछ देश भक्ति शायरी इन हिंदी दे रहे है, जो आप  Whatsapp, Face Book जैसे Social Sites  पर शेयर कर सकते है

Best Desh Bhakti Shayari In Hindi

मिटा दिया है वजूद उनका जो भी इनसे भिड़ा है,

देश की रक्षा का संकल्प लिए जो जवान सरहद पर खड़ा है।

==========================

चैन अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो
लाल हरे में मत बांटो, इसे शान तिरंगा रहने दो

========================

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना भारत माँ,
मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।
जय हिन्द

==============================

मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ.

=======================

दिलों की नफरत को निकालो
वतन के इन दुश्मनों को मारो
ये देश है खतरे में मेरेहमवतन
भारत माँ के सम्मान को बचा लो

======================

जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:
जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:
हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,
मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।

==================

देश के लिए प्यार है तो जताया करो

किसी का इन्तजार मत करो

गर्व से बोलो जय हिन्द

अभिमान से कहो भारतीय है हम

====================

मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा
ये मुल्क मेरी जान है
इसकी रक्षा के लिए
मेरा दिल और जां कुर्बान है

=======================

खुशनसीव हैं वो जो
वतन पे मिट जाते हैं,
मर कर भी वो लोग
अमर हो जाते हैं,
करता हूँ तुम्हे सलाम
वतन पर मिटने वालो,
तुम्हारी हर सांस में बसना
तिरंगे का नसीव है।
जय हिन्द…!

=====================

दे सलामी इस तिरंगे को

जिस से तेरी शान हैं,

सर हमेशा ऊँचा रखना इसका

जब तक दिल में जान हैं

=========================================

शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा

=====================================

मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,
कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,
मैं अमन पसंद हूँ,
मेरे शहर में दंगा रहने दो,
लाल और हरे में मत बांटो,
मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *