Best Teachers Day Shayari In Hindi

Treachers को Society का Pillar कहा जाता है, अगर सही तरीके से शिक्षा दी जाये तो Society की बुराइयो को मिटाया जा सकता है, और जैसे जैसे देश का विकास हो रहा है, शिक्षा का महत्व और बढ़ता जा रहा है
हम यहाँ पर Teachers के लिए कुछ Teacher Shayri in Hindi दे रहे है ,जो आप अपने टीचर्स के सम्मान मै Use कर सकते है

Best Teachers Day Shayari In Hindi

गुरु का महत्व कभी होगा ना कम,
भले कर ले कितनी भी उन्नति हम,
वैसे तो है इंटरनेट पे हर प्रकार का ज्ञान,
पर अच्छे बुरे की नहीं है उसे पहचान।
=========================================

सही क्या है, गलत क्या है, ये सबक पढ़ाते है आप,
सच क्या है, झूठ क्या है, ये समझाते है आप,
जब सूझता नहीं कुछ तो राहों को सरल बनाते हैं आप।
========================================

माता गुरु हैं, पिता भी गुरु हैं,
विद्यालय के अध्यापक भी गुरु है
जिससे भी कुछ सिखा हैं हमने,
हमारे लिए हर वो शख्स गुरु हैं
=========================================

ले गए आप इस स्कूल को उस मुकाम पर ,
गर्व से उठते हैं हमारे सर , हम रहे ना रहे कल ,
याद आएंगे आपके साथ बिताये हुए पल ,
हमे आपकी जरुरत रहेगी हर पल।
=========================================

गुमनामी के अंधेरे में था
पहचान बना दिया
दुनिया के गम से मुझे
अनजान बना दिया
उनकी ऐसी कृपा हुई
गुरू ने मुझे एक अच्छा
इंसान बना दिया।
=========================================

शांति का पढ़ाया पाठ,
अज्ञान का मिटाया अंधकार,
गुरू ने सिखाया हमें,
नफरत पर विजय है प्यार।
========================================

गुरु तेरे उपकार का,
कैसे चुकाऊं मैं मोल,
लाख कीमती धन भला,
गुरु हैं मेरे अनमोल
=========================================

अज्ञानता को दूर करके ज्ञान की ज्योत जलाई है,
गुरुवर के चरणों में रहकर हमने शिक्षा पाई है,
गलत राह पर भटके जब हम,
तो गुरुवर ने राह दिखाई है.
========================================

गुरू बिना ज्ञान कहाँ,
उसके ज्ञान का आदि न अंत यहाँ।
गुरू ने दी शिक्षा जहाँ,
उठी शिष्टाचार की मूरत वहाँ।
=========================================

जीवन जितना सजता है माँ-बाप के प्यार से,
उतना ही महकता है गुरू के आशीर्वाद से,
समझ कल्याण में जीतने माँ-बाप होते है खास,
उतने ही गुरू के कारण होती है देश की साख।
========================================

आपसे ही सीखा, आपसे ही जाना
आप ही को हमने गुरु हैं माना,
सीखा हैं सब कुछ आपसे हमने,
कलम का मतलब आपसे हैं जाना
=========================================

हमारा मार्गदर्शक बनने,
हमें प्रेरित करने और
हमें वो बनाने के लिए
जो कि हम आज हैं,
हे शिक्षक आपका धन्यवाद।
=========================================

माता-पिता की मूरत है गुरू,
इस कलयुग में भगवान की सूरत है गुरू।
========================================

क्या दूँ गुरु-दक्षिणा,
मन ही मन मैं सोचूं।
चुका न पाऊं ऋण मैं तेरा,
अगर जीवन भी अपना दे दूँ।
=========================================

सही क्या है ? गलत क्या है ? ये सबक पढ़ाते हैं आप,
झूठ क्या है ? सच क्या है ? ये बात समझाते हैं आप,
जब सूझता नहीं कुछ भी ,राहों को सरल बनाते हैं आप।
=========

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *